Bharosa shayari in Hindi, Image, Quotes, Messages

Spread the love

Advertisement

Bharosa shayari

Bharosa shayari in Hindi, Image, Quotes, Messages

सब पर भरोसा है,
पर कुछ नहीं हासिल है,
जिस तरफ पीठ करो,
वहीं खड़ा कातिल है।

Sab par bharosa hai,
Par kuchh nahi haasil hai,
Jis taraf peeth karo,
Waheen khada kaatil hai.

sad shayari in hindi

समुंदर की लहरों पर भरोसा कर बैठे,
कल वो डुबा कर हमें किनारा कर बैठे।

Samundar ki laharon par bharosa kar baithe,
Kal wo duba kar hamen kinaara kar baithe.

Dukhi shayari quotes

Bharosa shayari in Hindi, Images

जिन्हें फ़िक्र थी कल की, वो रोयें रात भर,
जिन्हें यकीन था रब पर वो सोयें रात भर।

Jinhen fikr thi kal ki, wo roye raat bhar,
Jinhen yakin tha rab par wo soye raat bhar.

Bewafa shayari

भरोसा क्या करना गैरों पर,
जब गिरना और चलना है अपने ही पैरों पर।

Bharosa kya karana gairon par,
Jab girana aur chalana hai apane hi pairon par.

Sad love shayari in hindi

बेशक किसी को माफ बार-बार करो,
लेकिन भरोसा सिर्फ एक बार करो।

Beshak kisi ko maaf baar-baar karo,
Lekin bharosa sirf ek baar karo.

Promise shayari for love

भरोसा शायरी, यकीन शायरी

यकीन था हमें उन पर,
तोड़ दिया उन्होंने भरोसा हस कर,
उन्हों ने सोचा भी नहीं,
क्या गुज़रेगी इस दिल पर।।

Yakin tha hame un par,
Tod diya unhone bharosa has kar,
unhon ne socha bhi nahi,
kya guzaregi is dil par..

Bharosa shayari for love

भरोसा तब नहीं टूटता जब कोई रूठ जाता है,
भरोसा तब टूटता है जब कोई दिल तोड़ जाता है।

Bharosa tab nahi tutata jab koi ruth jaata hai,
Bharosa tab tutata hai jab koi dil tod jaata hai.

Bharosa shayari massages for love

Best Yakeen Shayari for love

यह चमत्कार केवल “विश्वास” ही कर सकता हैं,
जो पत्थर को भी “भगवान” कर सकता हैं..।।

Yah chamatkaar kewal “vishwaas” hi kar sakata hain,
Jo patthar ko bhi “bhagawaan” kar sakata hain….

Dua shayari images

लोगो के पास बहुत कुछ हैं,
मगर मुश्किल यही है कि
भरोसे पर शक हैं और
अपने शक पे भरोसा हैं।

Logo ke paas bahut kuch hain,
Magar mushkil yahi hai ki
Bharose par shak hai aur
Apne shak pe bharosa hain.

wada shayari love in hindi

फिर से आ जाओ बेवफाई का तीर लेकर,
मोहब्बत के जंग में मैं निहत्थे उतरा हूँ।

Phir se aa jao bewafaai ka teer lekar,
Mohabbat ke jang mein main nihatthe utara hoon.

Read more:-  Bewafa shayari

Advertisement

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *