Narazgi shayari in Hindi | Narazgi shayari 2 lines | Shayari on Narazgi

Spread the love

Advertisement

Narazgi shayari in Hindi , Narazgi shayari 2 lines , Shayari on Narazgi

हर बात खामोशी से मान लेना..
यह भी अंदाज़ होता है नाराज़गी का

Har baat khamoshi se maan lena,
Yah bhi aandaz hota hai narazagi ka.

बेशक मुझपे गुस्सा करने का हक है तुम्हे,
पर नाराजगी में हमारा प्यार मत भूल जाना।

Beshak mujhpe gussa karne karne ka haqk hai tumhe,
Par narazagi me humara pyaar mat bhul jana.

2 lines Narazagi shayari

गलती तो सबसे होती है, हाँ मुझसे भी हो गयी
अब माफ़ भी कर दे मुझे, क्यों दूर इतना हो गई
एक गलती के लिए क्यों ऐसे साथ छोड़ गयी

Galati to sabse hoti hai, ha mujh se bhi ho gayi
Ab Maaf Bhi kar de mujhe, kyu dur itna ho gayi
Ek galati ke liye kyu aise sath chhod gayi.

Advertisement

कुछ नाराज़गी सिर्फ गले लगने से ही दूर होती हैं,
समझने समझाने से नहीं।

kuch narazagi sirf gale lagane se hi dur hoti hai,
Samajhane samjhaane se nahi.

रिश्ता” दिल से होना चाहिए, शब्दों से नहीं,
“नाराजगी” शब्दों में होनी चाहिए दिल में नहीं!.

Rishata” dil se hona chahiye, sabdo se nahi,
“Narazagi” sabdo me honi chahiye dil me nahi.

Narazagi shayari for love

मेरी नाराज़गी को मेरी
बेवफ़ाई मत समझना,
नाराज़ भी उसी से होते है
जिससे बेइंतिहा मोहब्बत हो।

Meri narazagi ko meri
Bewafa mat samjhana
Narazagi bhi usi se hota
Jisse beintahha mohobbat ho.

याद रखना भी बहुत हिम्मत का काम है
क्यूंकि किसी को भुला देना आजकल बहुत आम बात है .

Yaad rkhana bhi bahot himmat ka kaam hai
Kyuki kisi ko bhula dena aajkal bahot aam baat hai.

Udashi shayari in Hindi

तुम हमसे फासले बरकरार ही रखना
तुम पर अब लिखने की तैयारी है…
आखों के करीब रख किताबे लिखी-पढ़ी नही जाती
उसके लिए कुछ फासलें बहुत जरूरी है…

Tum humse phasle barkrar hi rkhna
Tum par ab likhane ki taiyari hai,
Akhon ke karib rakh kitaabe likhi-padhi nahi jati
uske liye kuch phasle bahot jaruri hai.

हम रूठे भी तो किसके बहाने रूठे
कौन है जो आएगा हमें मनाने
हो सकता है तरस आ भी जाए आपको
पर दिल कहाँ से लाये आपसे रूठ जाने के लिए

Hum ruthe bhi to kiske bahane
Kon hai jo aayega hume manane
Ho skta hai tarash aa bhi jaye aapko
Par dil kaha se laye aapse ruth jane ke liye.

मुझको छोङने की वजह तो बता देते..
मुझसे नाराज़ थे या..मुझ जैसे हज़ारों थे.

Mujhko chhodne ki wajah to bata dete
Mujho naraz the ya mujhe jaise hazar the.

Read more:-  Sister sister in Hindi

Advertisement

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version